fbpx

About Me

0 (0) Rashmi Bansal is a writer, entrepreneur and a motivational speaker. An author of 10 bestselling books on entrepreneurship which have sold more than 1.2 ….

Learn More
signature

धरती मां के नाम, माफी की एक चिट्‌ठी

धरती मां के नाम, माफी की एक चिट्‌ठी
4.4
(17)

रश्मि बंसल का कॉलम: सिर्फ ख्यालों में बादल बरसेंगे, ऑक्सीजन के लिए हम तरसेंगे…

(scroll down if you prefer reading Hindi in Roman alphabets)

जहां धरती पर ऑक्सीजन की हाहाकार मची है, तभी वैज्ञानिकों ने चकित करने वाली घोषणा की। मंगल पर पहली बार ऑक्सीजन का उत्पादन किया। पहले प्रयास में सिर्फ 6 ग्रामऑक्सीजन मिली, जो एक प्राणी को दस मिनट जिंदा रख पाएगी। लेकिन है तो एक सराहनीय शुरुआत। मंगल की हवा में ऑक्सीजन सिर्फ 0.1% है, जबकि पृथ्वी पर 21%। वहां मौसम बर्फीला है। जमीन बंजर है। फिर भी मनुष्य वहां अपना पैर जमाना चाहता है।

अभी तो साइंस के नाम पर वहां रॉकेट भेज रहे हैं। लेकिन आगे हम कोई फायदा जरूर उठाना चाहेंगे। यानी आर्थिक वृद्धि। शायद मंगल पर बहुमूल्य खनिज हैं या फिर और कुछ, जिसका हमें अंदाजा भी नहीं। और मनुष्य के लालच की सीमा भी नहीं। आज तक हमने धरती पर युद्ध लड़े, हो सकता है भविष्य में अंतरिक्ष में ऐसे युद्ध लड़ें।

ये ख्याल क्यों आ रहे हैं? आस-पास कोविड से हो रहे विनाश कोे देखकर। पुरातन संस्कृतियों में धरती को देवी या मां माना जाता था। ग्रीस या रोम, चीन या भारत। मगर पिछले सौ सालों में इस मां को हमने इतनी पीड़ा दी है कि मजबूर होकर वो हमें चीख-चीखकर संदेश दे रही हैं। मेरे प्यारे बच्चों, जागो। तुमने इस दुनिया में लकीरें काट-काटकर देश बना दिए हैं। हर देश अनगिनत हथियार इकट्‌ठे कर रहा है। लेकिन ये हथियार कोविड के सामने लाचार हैं। एक ऐसा शत्रु जो आसानी से, हर सीमा का उल्लंघन कर लेता है। और तो और, शत्रु भेष बदलना भी जानता है।

आज शहर सुनसान है, हर घर परेशान है। हमने कौन-सा पाप किया था, समझ नहीं आता। एक का दोष नहीं, कहती है माता…

तुम सबने मिलकर ऐसी दुनिया सजाई, प्रकृति के नियम की बैंड बजाई। जंगल के पेड़ों को बेरहमी से काटा, चॉपस्टिक्स और कागज के टुकड़ों में बांटा…

तेल के लिए धरती का शोषण किया, महंगी गाड़ी लेकर नाम रोशन किया। जंगल में शेर भी पेट पालने के लिए खाता है, आदमी यूं ही आप पे उंगली उठाता है…

घर का पौष्टिक भोजन अब भाता नहीं, वैसे भी हमें बनाना आता नहीं। ऑफिस के काम इतने सारे, करने पड़ते हैं पैसों के मारे..

पैसे से देश भी जाना जाता है, समृद्ध या पिछड़े का खिताब पाता है। कितना बनाया, कितना बेचा, पर कोई न पूछता कितना फेंका?

ऐसे कपड़े सिर्फ एक बार पहने, लॉकर में पड़े सोने के गहने। हर चीज पर प्लास्टिक की परतें, छोड़ो न हम नहीं डरते…

इस कचरे के पहाड़ों पर कौन चढ़ेगा, इस भयानक यथार्थ से कौन लड़ेगा? चलो क्लाइमेट चेंज पर कॉन्फ्रेंस कर दो, 5 स्टार होटल का बैंक्वेट हॉल भर दो…

निन्यानवे के फेर में सब अटके हुए हैं, जिंदगी की राह में भटके हुए हैं। लेकिन अब आया है ऐसा प्रकोप, इग्नोर करने का नहीं है स्कोप…

किसी के मामा, किसी के चाचा, किसी की बहन, किसी के भ्राता। कब, कहां, कैसे, समझ नहीं आता…

रिश्तेदार इधर-उधर भाग रहे हैं, हर किसी से मदद मांग रहे हैं। सबको सुविधा मिल नहीं पाई, एक और आंसू भरी आकस्मिक जुदाई…

इस महामारी से जब हम बाहर निकल जाएंगे, तो क्या अपने अंदर कुछ बदलाव पाएंगे?

इसका जवाब आपके पास है, धरती मां की तो यही आस है। कि हम पैसा कम और प्रेम ज्यादा कमाएं, इस पृथ्वी को स्वर्ग बनाएं…

नहीं तो मंगल गृह पर एक दिन जाना पड़ेगा, लैब में उगाया गेहूं खाना पड़ेगा। सिर्फ ख्यालों में बादल बरसेंगे, ऑक्सीजन के लिए हम तरसेंगे…

क्षमा करना मां, हमसे भूल हुई। मैं आपके चरणों की धूल हुई…

(originally published in Dainik Bhaskar on 28.04.21:  https://dainik-b.in/4dm5ynqgOfb)

Jahan dharti par oxygen ki hahakaar machi hui hai, tabhi vaigyanikon ne ek chakit karne wali ghoshna ki. Mangal grah par pehli baar, oxygen ka utpadan kiya gaya. Pehle prayaas mein sirf chhe gram oxygen praapt hua, jo ek praani ko dus minute tak zinda rakh payega. Lekin hai to ek saraahneeya shuruaat.

Mangal grah ki hawa mein oxygen ki maatra sirf 0.1% hai, jab ki prithvi par 21%. Wahan ka mausam barfeela hai. Zameen banjar hai, kheti ho nahin sakti. Phir bhi manushya wahan apna pair jamana chahta hai. Abhi to science ke naam par hum wahan rocket bhej rahe hain. Lekin aagey hum koi na koi fayda zaroor uthana chahenge.

Yaane ki aarthik vriddhi. Shayad mangal grah par bahumoolya khanij padarth hain, ya phir aur kuch, jiska aaj humein andaaza bhi nahin. Aur manushya ke lalach ki seema bhi nahin. Aaj tak humne dharti par yuddh ladey, zameen ke tukdon par apna haq jamaane ke liye. Ho sakta hai bhavishya mein antariksh mein aise yuddh ladey jayenge.

Yeh khayal kyun aa rahein? Apne aas-paas covid ke kaaran jo vinaash ho raha nahi, usey dekh kar. Puratan kaal ki sabhi sanskrityon mein dharti ko ek devi, ya ma ke roop mein jaana jaata tha. Chahe Greece ya Rome,  Cheen ya Bharat. Magar pichle sau saalon mein is ma ko humne itni peeda di hai, ki majboor ho kar wo humein cheekh cheekh kar sandesh de rahi hai.

Mere pyaare bachchon, jaago. Tumne is duniya mein lakeerein kaat-kaat kar desh bane diye hain. Har desh apni seema ki raksha ke liye anginat hathiyaar ikatthe kar raha hai. Lekin yeh hathiyaar covid ke saamne laachaar hain. Ek aisa shatru jo aasaani se, har seema ka ullanghan kar leta hai. Aur to aur, shatru bhesh badalna bhi jaanta hai.

Aaj sheher sunsaan hai, har ghar pareshaan hai. Humne kaun sa paap kiya tha, samajh nahin aata. Kisi ek ka dosh nahin, kehti hai maata. 

Tum sab ne mil kar aisi duniya sajaayi, prakriti ke niyam ki band bajaayi. Jungle ke pedon ko berahmi se kaata, chopsticks aur kaajaz ke tukdon mein baanta.

Tel ke liye dharti ka shoshan kiya, mehengi gaadi le kar naam roshan kiya. Jungle mein sher bhi pet paalne ke liye khaata hai, aadmi yun hi aap pe ungli uthaata hai.

Ghar ka paushtik bhojan ab bhaata nahin, waise bhi humein banana aata nahin. Office ke kaam itney saare, karna padta hai paison ke maarey.

Paise se desh bhi jaana jaata hai, samriddh ya pichchdey ka khitaab paata hai. Kitna banaya, kitna becha, par koi na poochchta kitna pheka?

Aise kapde jo sirf ek baar pehne, locker mein padey hue soney ke gehney. Har cheez par plastic ki partein, choodo na hum nahin darte.

In kachre ke pahaadon par kaun chadega, is bhayanak yatharth se kaun ladega? Chalo climate change par conference kar do, 5 star hotel ka banquet hall bhar do.

Ninyanve ke pher mein sab atkey huey hain, zindagi ki raah mein bhatkey hue hain. Lekin ab aaya hai aisa prakop. Ignore karne ka hai nahin scope.

Kisi ke mama, kisi ke chacha, kisi ki behen, kisi ke bhrata. Kab, kahana, kaise, samajh nahin aata.

Rishtedaar idhar-udhar bhaaag rahe hain, har kisi se madad maang rahe hain. Sab ko suvidha mil nahin paaee; ek aur aansoo bhari, aakasmik judaai. 

Is mahamaari se jab hum baahar nikal jayenge, to kya apne andar kuch badlaav paayenge?

Iska jawaab aapke paas hai, dharti ma ki to yehi aas hai. Ki hum paisa kum aur prem zyada kamaayein. Is prithvi ko hi swarg banayein.

Nahin to mangal grah par ek din jaana padega, lab mein ugaya gehu khaana padega. Sirf khayalon mein baadal barsenge, oxygen ke liye hum tarsenge.

Kshama karna ma, humse bhool hui. Main aapke charnon ki dhool hui.

 

How did you like the story?

The author would love to know

4.4 / 5. Vote count: 17

No votes so far! Be the first to rate this post.

Admin VIP

3 thoughts on “धरती मां के नाम, माफी की एक चिट्‌ठी

  1. Very well written.It deals with today,s problems.Padhkar bahut accha laga.

  2. So apt Rashmi. And true that in times like these emotions flow in the mother tongue.

Leave a Reply

Your email address will not be published.